home About Science, Science Articles एक टन ए सी और 1.5 टन ए सी में क्या अंतर है

एक टन ए सी और 1.5 टन ए सी में क्या अंतर है

दोस्तों आज हमारे घर में कूलर की जगह AC ने ले ली है अधिकांश जगह पर AC लग चुके है इन सबका जिम्मेदार सिर्फ ग्लोबल वार्मिंग है और इसी तरह से अगर  अर्थ के आस पास का तापमान बढ़ता जायेगा तो जहा पर लोग एक AC लिए है वो कई AC लेंगे क्यों की आज की डेट में लोग अपने बेड रूम में AC लगबाये है कुछ दिनों के बाद ड्राइंग रूम में फिर टॉयलेट इत्यादि में भी लगबाना शुरू कर देंगे बिना AC गाडियों के लोग निकलते नहीं है

Science articles

इन्ही सब को ध्यान में रखते हुए आज का हमारा टॉपिक है की एक टन ए सी और 1.5 टन ए सी में क्या अंतर है कुछ लोग एक टन ए सी तो कुछ लोग 1.5 टन ए सी  लगते है क्या आपने कभी इस विषय पर ध्यान दिया है की क्या बेसिक अंतर  है दोनों में ?

Science articles

TON एक तरह से रेफ्रिजरेशन इफ़ेक्ट की यूनिट होती है इसकी SI यूनिट 210 KJ/min or 3.5 KW है इसका मतलब है की एक टन का AC एक मिनट में 210KJ एनर्जी को हीट के फॉर्म में एक्सट्रेक्ट करता है अर्थात इतने ही अमाउंट की कुलिंग हो जाती है |

अब अगला क्वेश्चन ये आता है की क्यों हम टन में ही रेफ्रिजरेशन की यूनिट को रखे है क्यों नहीं हुमक किसी और चीज़ में रखते है जबकि एक टन का मतलव तो होता है 1000 KG

अर्थात १ टन = 1000 किलो ग्राम

Actually इसका कारण है की पहले के दिनों में जब हम कभी किसी जगह को ठंडा करना होता था तो हम ice ब्लाक  से उसे ठंडा करते थे क्यों की ice अपने आस पास के एनवायरनमेंट के heat को ice absorb  लेता है और इससे heat का टेम्परेचर बढ़ने लगता है और जब इस heat का टेम्परेचर 32 F हो जाता है तो  ice मेल्ट होने लगती है  इस ice के मल्ट होने में कितनी heat use होती है उसे ट्रैक करने के लिए हम BTU (ब्रिटिश थर्मल यूनिट ) या KJ या KW का use करते है

एक टन ice को मल्ट करने के लिए 286000 BTU की जरुरत पड़ती है अर्थात अगर ये 24 घंटे में एक टन ice मेल्ट होती हो तो एक घंटे में = 286000 BTU / 24 hours

                                                                                                                                                                                         = 11917 BTU per hours

अर्थात एक घंटे में 11917 BTU ~ 12000 BTU heat को absorb करेगा 12000 BTU  per hour और 3.5 KWH दोनों सेम होता हैअगर इसको हम पॉवर के टर्म में कहे तो इसका मतलब होगा की अगर एक टन का AC एक घंटे तक चलता है तो आप के घर का मीटर 3.5 यूनिट बढ़ जायेगा |

और एक मिनट में 198 BTU heat को absorb करता है

यही कारण  है की AC की यूनिट को टन में रखा जाता है

एक टन रेफ्रिजरेशन का मतलब होता है की एक टन ice 24 hours में  पानी में कन्वर्ट हो जायेगा | जितना जायदा इसका tonnage होगा उतना ही जायदा कुलिंग कैपेसिटी होगी और उतना ही जायदा पॉवर का कंसम्पशन होगा

हम एक thumb रूल से कितने टन AC की जरुरत पड़ेगी ये निकाल सकते है जैसे एक कमरे का साइज़ है

length = 10 feet

width = 10 feet

height = 10 feet

Volume = 10 * 10 * 10 = 1000 cubic feet

अर्थात 1000 cubic feet वॉल्यूम के लिए एक टन AC की जरुरत पड़ेगी

Science articles

इसी तरह अगर किसी रूम का वॉल्यूम 1500 cubic फीट है तो उस रूम के लिए  1.5 ton  AC की जरुरत पड़ेगी |

1 ton ac = 12,000 BTU= 3.5  KWH  and  1.5 ton ac = 18,000 BTU = 5.3kWh

अब आप उपरोक्त को देख कर समझ सकते है की कुलिंग कैपेसिटी किसकी सबसे जायदा है और दोनों का use आप किस एरिया तक कर सकते है और साथ ही साथ आप ये भी समझ सकते है की एक टन का AC और 1.5 ton के AC से कितना पॉवर का कंसम्पशन होगा |

अगर आप को ये साडी चीज़े पता है तो अब अपने घर में कितना टन की जरुरत है ये आप थोडा बहुत विशलेषण कर सकते है |

दोस्तों आज का हमारा ये आर्टिकल एक टन ए सी और 1.5 टन ए सी में क्या अंतर है आप को कैसा लगा अगर आप को इससे सम्बंधित कोई क्वेरी हो तो आप हमसे ईमेल के माध्यम से पूछ सकते है

धन्यवाद

 

 

Facebook Comments

2 thoughts on “एक टन ए सी और 1.5 टन ए सी में क्या अंतर है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *