home Success Motivation, Website Quotes क्या आप भी पढना चाहते है दुसरे का मन

क्या आप भी पढना चाहते है दुसरे का मन

im1

 

 

Websites quotes & Success motivation

आज  हम कुछ websites quotes & Success motivation  के  माध्यम से आप को  दुसरे व्यक्ति को समझने के बारे मैं  प्रकाश डालेंगे |

सबसे पहले मैं आप को दो अलग टाइप के दोस्तों के आपस मैं एन्जॉय करने के तरीको पर विचार करूँगा जैसे पहला केस होगा दो बचपन के दोस्तों का एंजोयमेंट और दूसरा केस होगा दो ऑफिस के दोस्तों का एंजोयमेंट |

मैंने एंजोयमेंट इसलिए लिया की जब दो लोग एन्जॉय करते है तो वो आपस मैं बहुत सारी चीजे शेयर करते है जिससे कुछ लोग उससे बचना चाहते है ताकि उनके भविष्य में कोई दिक्कत न आये तो आइये देखते है कौन बचना चाहता है और कौन डूबना चाहता है |

दो बचपन के दोस्त  

हमे भी पता है हमे सबसे जायदा अपने बचपन के फ्रेंड, मोहल्ले के फ्रेंड जिनके साथ हमने समय व्यतीत किया है उनके साथ टाइम स्पेंट करना जायदा पसंद करते है  क्यों की उनकी सोच हमसे मिलती है वो हमको समझाते है हम उनको समझते है उन्हें पता है हम किस चीज से गुस्सा होते है और हमे पता है की वो किस चीज से गुस्सा होते है हमें यहाँ पाने की ख़ुशी होती  |

imp3

 

हमे जायदा एन्जॉय यही  करते है क्यों की हम लोड नहीं लेते है की वो क्या सोचेंगे या की वो कब नाराज़ हो जायेंगे और क्या वो बुरा तो नहीं मान जायेंगे की वो हमारी साड़ी बात तो नहीं जान जायेंगे जान जायेंगे तो किसी से कह तो नहीं देंगे | इस तरह की चीजे बचपन के दोस्त में नहीं होती है कौर उसका सबसे बड़ा उदहारण है की जब बचपन से अब तक उसने ट्रस्ट को नहीं तोडा तो अब आगे क्या तोड़ेगा |

ff1

 

दो ऑफिस के दोस्त

इसके विपरीत अगर आप अपने बचपन के फ्रेंड के आलावा किसी और के साथ बैठे हो उदाहरण के लिए आप अपने ऑफिस के कलिग के साथ बैठो हो  तो हमेशा आप रिज़र्व रहोगे शब्दों पर कण्ट्रोल रहेगा आप भी प्रोफेशनल के तरह बीहेव  करोगे वो भी करेंगे दोनों लोग पुरे पीरियड में ऐसे ही बर्ताव करते रहंगे | और वो ये शो करने का भी नाटक करते रहेंगे की वो एन्जॉय कर रहे बुट इससे बत्तर बुरा एन्जॉय इन्होने कभी अपने जीवन मैं भी नहीं किया होगा | और सबसे बड़ी बात ये है की कोई जायदा नहीं बोलेगा क्यों की पता है इससे दोनों के बीच का बांध टूट जायेगा और लोग खुल कर बाते करने लगेंगे जिससे फ्यूचर में इनमे दिक्कत होने के पुरे चांसेस हो सकते है |

official

 

दोस्तों क्या आप को पता है की किसी के मन मैं क्या चल रहा है वो कब क्या सोचता है क्या पसंद करता है ये चीजे जननी हो तो कैसे पता करेंगे | वो हम आप को निम्न प्रकार से बताते है और आप को ये भी बताते है उपर हमने एक्साम्प्ले के माध्यम से आप को जो बताया है की जब दो प्रोफेशनल दोस्त आपस मैं बात करते है खुल के क्यों नहीं बात कराते है ताकि सामने वाला उसको समझ न जाये और हलके मैं न लेले समझे ?

 

मित्रो आपने ये हमेशा पढ़ा होगा किसी को अगर किसी अज्ञात व्यक्ति को अपने वश में करना हो तो आप उसे कैसे करेंगे –

  1. उससे खूब बात करो ताकि उसके विचार आप को पता चल सके
  2. अगर वो बात नहीं कर रहा है तब उससे उसके विचार के बारे मैं पूछेंगे ताकि उसका मानसिक लेवल और आचार विचार पता चल सके
  3. अगर वो बहुत कम जबाब दे रहा है तो उससे खूब क्वेश्चन पूछो ताकि उसके विचारो को समझा जा सके
  4. अपनी विचारो को समझाने के लिए भी क्वेश्चन पूछे की वो हमारी बात को या हमारे विचार को समझ पा रहा है की नहीं |

इतनी बाते करने पर आप को तो समझ में आ ही जायेगा की वो व्यक्ति आप के साथ किस तरह की बाते करने में आनंदित हो रहा है मतलब humor टाइप की बाते से या सीरियस टॉपिक्स पर किस टॉपिक्स पर आप से बाते करना चाहता है और आप उससे उस टॉपिक पर बाते करके उसे अपने वश में कर सकते है |

कभी कभी हम इतने भी बड़े नही हो पाते जिस से हम अच्छे बुरे का फैसला कर सके. आपने कई बार उनसे धोखा खाया होगा जहा अपने उम्मीद नही की होगी. जीवन इसी का नाम है और हमारा मकसद Website quotes and Success motivation के साथ है की हम लोगो को हर तरह की जानकारी उपलभ्द कराये और अखंड भारत के सभी जन मानस को प्रगति पथ पर अग्रसित करे.

आपसे विनम्र निवेदन है अगर आपके अन्दर भी कला कौशल है जो सायद किसी की मदद कर सके तो ऐसे सन्देश, आर्टिकल हमें जरुर दे. हम वादा करते है अपने website पर आपके नाम व् फोटो के साथ upload कर के आम जनता के हित में उसे सबके सामने रखेंगे.

Facebook Comments

One thought on “क्या आप भी पढना चाहते है दुसरे का मन

  1. welldone Rajiv ji !!! what a nice piece f informative psychoanalytical article.. i liked it much and believe these things always happen with us into our surroundings. just keep it up …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *