home Miscellaneous क्या अब नही होगी कॉल-ड्राप..!

क्या अब नही होगी कॉल-ड्राप..!

जरा याद करिए नब्बे के दशक के सालों को जब किसी के हाथ में मोबाइल फोन होना आश्चर्य की बात होती थी और अब वर्तमान समय में किसी के पास मोबाइल न होना ‘घोर आश्चर्य’ की बात हो गई है! राशन पानी की तरह आवश्यक हो गया है ये मोबाइल फ़ोन ..!

 

इसने जितनी सुविधाएँ दी हैं उतनी ही उलझने भी तो बढ़ा दी हैं जिंदगी में. उनमे से एक समस्या है  बार बार ‘कॉल-ड्राप’ (Call drop) होना, पूरी धुन से बतियाते हुए लोगो का सारा कंसंट्रेशन बिगाड़ के रख देती है ये..! हर किसी को इससे दो-चार होना ही पड़ता है, लेकिन सभी बेबस ही होते हैं इसके सामने!

 

ऐसा नही है की Call drop समस्या की तरफ से सरकार ने आंख मूँद रखा है, लेकिन अभी भी ऐसा कुछ ठोस हो नही पाया है जिससे पब्लिक को राहत मिले. हाल ही में टेलिकॉम मिनिस्टर मनोज सिन्हा ने बयान जारी किया कि; कॉल ड्राप(Call drop) पर कस्टमर्स का फीडबैक लेने के लिए सरकार एक अलग प्लेटफार्म बनाने की तैयारी कर रही है.

 

सरकार ने तैयारी की लेकिन जरा देर कर दी. क्योकि मौजूदा टेलिकॉम बाज़ार की हालत ‘रिलायंस जिओ’ के आने के बाद ‘गड्ढे के मेढकों’ जैसी हो गई है, जिसमे गड्ढे से बाहर निकलने की कोशिश करने वाले मेढक को दूसरे मेढक वापस गड्ढे में खींच लेते हैं.. आप मेरी बात का निहितार्थ समझ गये होंगे..!

call drop

जब मामला ‘बद से बदतर’ हो चला तब रिलायंस जिओ के साथ इरादतन कॉल-ड्राप के विवाद में TRAI (टेलिकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया) ने एयरटेल, आईडिया और वोडाफोन पर 3050 करोड़ रुपयों की पेनल्टी लगायी.

TRAI (टेलिकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया) के चेयरमैन ने इसके सम्बन्ध में टेलिकॉम कम्पनीज के अधिकारियों से मुलाकात कर कॉल-ड्राप की समस्या को स्टैण्डर्ड लेवल पर लाने और पॉइंट ऑफ़ इंटरकनेक्शन (POI) के मौजूदा झगडे को निपटाने के निर्देश दिए. विदित हो कि; एक टेलिकॉम सर्विस प्रोवाइडर से दूसरी टेलिकॉम कंपनी के नेटवर्क पर कॉल करने के लिए POI की जरूरत होती है. लेकिन यही POI कस्टमर्स के लिए ‘POINT OF IRRITATION’ बन गया है..!

 

यहाँ पर आपकी जानकारी के लिए यह भी बताना उचित होगा कि, कॉल-ड्राप(Call drop) का TRAI के द्वारा निर्धारित स्टैण्डर्ड लेवल 5 :1000 है, मतलब की 1000 कॉल्स में से अधिकतम केवल 5 कॉल्स ही ड्राप होनी चाहिए लेकिन वर्तमान वास्तविकता कुछ और ही है.

अब ऐसे हालात में हमारे आपके जैसे निरीह ग्राहक सिवाय उम्मीद बाँधने के क्या कर सकते हैं जब कॉल- ड्राप(Call drop) की समस्या को अगले महीने तक सुलझाने का आश्वासन उस टेलिकॉम मिनिस्टर ने दिया हो जिसका प्राइम –मिनिस्टर खुद “डिजिटल इंडिया’’ का नारा बुलंद कर रहा हो…!

Save

Save

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *